पश्चिमी चम्पारणबिहार

प्रखंड मुख्यालय में बन रहे शौचालय निर्माण में अनियमितता को लेकर लोगों मे आक्रोश।

 

मैनाटांड़ से संवाददाता पंकज कुमार

प्रखंड मुख्यालय स्थित मनरेगा भवन से सटे लाखों रुपये की लागत से बन रहे शौचालय निर्माण में अनियमितता को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है ।शौचालय निर्माण में अनियमितता को लेकर ग्रामीणों ने विरोध प्रदर्शन भी किया। आक्रोशित ग्रामीण हेमंत कुमार, विनय कुमार ठाकुर, लुत्फुररहमान खान,रमेश प्रसाद, शोबरत निया ,लुकमान मियां,मनोहर साह ,अमरेश कुमार आदि ने बताया कि बड़ी मुद्दत से ही प्रखंड मुख्यालय में लाखों की लागत से शौचालय का निर्माण हो रहा है। लेकिन अफसोस की बात है कि शौचालय निर्माण में अनियमितता बरती जा रही है। सीमेंटेड ईंट लगाया तो जा रहा है। लेकिन इसकी क्वालिटी निम्न स्तर की है। जबकि जुड़ाई के लिए बनाये जा रहे मसाला में सीमेंट की मात्रा बहुत कम और बालू की मात्रा ज्यादा है । निर्माण स्थल पर एक अदर बोर्ड भी नहीं लगाया गया है ।ग्रामीणों ने बताया कि जिस तरह से शौचालय बनाया जा रहा है उससे उसका भविष्य ठीक नहीं होगा और जल्द ही शौचालय जर्जर हो जायेगा। आक्रोशित ग्रामीणों ने जिला प्रशासन से हस्तक्षेप कर अच्छे ढंग से शौचालय निर्माण की मांग की है।इधर बीडीओ राजकिशोर प्रसाद शर्मा ने बताया कि संवेदक से एस्टीमेट की मांग की गई है। मानक के अनुरूप ही काम होगा। इसमें कहीं से ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी।